16 जनवरी 2007

मेरे द्वारा बनाई कुछ पेन्टिंग

मेरे द्वारा बनाई कुछ पेन्टिंग देखिए और अपनी प्रतिक्रिया दीजिए:

14 टिप्‍पणियां:

Udan Tashtari ने कहा…

बहुत सुंदर चित्रकारी लगी. बहुत बहुत बधाई.

Dr.Bhawna ने कहा…

बहुत-बहुत धन्यवाद समीर जी।

lavanyashah ने कहा…

Bhawna ji,
Nameste !

aapke BLOG per aapki Paintings dekh ker badee khushee huee -- aap to Kavita ke sath sath chitra kala mei bhee suljhee huee kritiyan banateen hain ---
Bahot sari shubh kaamna ---

sa - sneh,
L

उन्मुक्त ने कहा…

जितनी सुन्दर आपकी कवितायें हैं उतने ही सुन्दर चित्र

जनवरी 08, 2007

Dr.Bhawna ने कहा…

उन्मुक्त जी इतने सहज़ भाव से इतनी अच्छी तारीफ करने के लिये दिल से आभारी हूँ। यूँ ही अपना स्नेह बनाये रखिये।

जनवरी 08, 2007

Narendra ने कहा…

aadarniya bhawna ji, namaskar.
aaj aapka blog dekha to muje kavitiri ke saath ek chitrakar bhi nazar aaya.
aur vo aap he hei.
aapne pehle kabhi muje bataya he nahi ki aap chitra bhi bannati hei, sabdo rupi maala bannae ke saath aap unko rango me dahlti hei. lekin muje aacha laga .
lagra hei aapke sir par mata SARASWATI ka haath rakha hua hei.

narendra

जनवरी 10, 2007

Dr.Bhawna ने कहा…

Narendera ji itani sari tareef karne ke liye aapka shukriya aapko paintings pasnd aai to hamari mehant safal hui.
shukriya

जनवरी 10, 2007

बेनामी ने कहा…

Bhavana

Kuch kala kritiyaan sunder lagee. Chitr banatee rahiye.

aashirvaad
Ripudaman Pachauri

aaweg ने कहा…

Bhawana ji,

Aapke Blog mein bhartiyata ko bhawanatmak dhang se saheja gaya hai. Blog mein aapki mehanat aur lagaw puri tarah se jhalakta hai. Sarjan ki aap ki jugalbandiyan barbas khinch leti hain. Bhaw kw kayee rang pure sur mein mridang bhanti goonj rahe hain. Aise hi ukerate rahiye. Shubhkamnayein.

Aaweg.

Dr.Bhawna ने कहा…

अवेग जी
आपने बहुत अच्छी तरह से अवलोकन किया है मेरे ब्लाग का। बहुत अच्छी तरह से पहचाना है मेरे भावों को आभारी हूँ। बहुत-बहुत धन्यावाद। आगे भी पढ़ते रहियेगा। एक बार फिर से

धन्यवाद।

बेनामी ने कहा…

बहुत अच्छा ब्लॉग और बहुत अच्छी चित्रकला!

Dr.Bhawna ने कहा…

लावन्या जी आपने मुझे इतना सराहा कि मैंने और कई पेन्टिंग बना डाली। आप यूँ ही सराहते रहिये और हम यूँ रंगों से खेलते रहेंगे। बहुत-बहुत शुक्रिया।

priyankar ने कहा…

वाह! काव्य और चित्रकला दो-दो विधाओं में सिद्धहस्तता . आपके चित्र और कविताएं एक-दूसरे के पूरक हैं.

Dr.Bhawna ने कहा…

प्रियंकर जी आपको चित्र पसन्द आये बहुत-बहुत शुक्रिया आगे भी आपको नये चित्रों को देखने का मौका मिलेगा अभी कुछ रंग भरना बाकी है आप सबकी प्रतिक्रियाँ को देखकर वह भी जल्दी ही पूरा करूँगी। एक बार फिर से धन्यवाद।