30 जून 2008

कुछ दिनों के लिये लिखने पढ़ने से विदा...

एक लम्बे अरसे बाद ८ जुलाई को भारत जाना हो रहा, अपने परिवार के साथ रहने का अवसर मिल रहा है अज़ीब सा एहसास है मन में , कभी २ या ३ साल में जो जाने को अवसर मिलता है, क्योंकि यहाँ भी कभी हमें छुट्टी नहीं, कभी हमारे साहब को, तो कभी बच्चों के पेपर, पर अब अच्छा लग रहा है,बस आप लोगों से और नेट से ज्यादा सम्पर्क नहीं रह पायेगा , आप सबको बहुत मिस करूँगी २ महीने बाद मुलाकात होगी ,कोशिश करूँगी इस पर bhawnak2002@gmail.com बने रहने की तब तक लिये लिखने पढ़ने से विदा...

Dr. Bhawna

10 टिप्‍पणियां:

रंजू ranju ने कहा…

आपकी छुट्टियाँ सुखद बीते .भारत यात्रा सुखद रहे ..इसी शुभकामाना के साथ

Mired Mirage ने कहा…

भारत यात्रा व छुट्टियाँ बढ़िया रहें। लौटकर खूब लिखियेगा।
घुघूती बासूती

बेनामी ने कहा…

आपकी यात्रा सुखद रहे.और भारत मे आपका समय आनन्द्पुर्न बीते
अनिल के.

बेनामी ने कहा…

आपकी यात्रा सुखद रहे.और भारत मे आपका समय आनन्द्पुर्न बीते
अनिल के.

राकेश जैन ने कहा…

bharat agaman par hardik abhinandan..

Udan Tashtari ने कहा…

भारत यात्रा सुखद रहे.ढ़ेरों शुभकामानाऐं.

Anil Pusadkar ने कहा…

swagatam

vipinkizindagi ने कहा…

Wonderful Marvelous Fabulous
Amazing
आपके ब्लॉग पर टिप्पणी के लिए ये शब्द छोटे है,
आप से सीखना चाहता हूँ,
मेरा ब्लॉग पढ़ें और मुझे अनुग्रहित करे.

मोहन वशिष्‍ठ ने कहा…

भावना जी हम आपका भारत आगमन पर हार्दिक स्‍वागत करते हैं और आशा करते हें कि आप भारत आकर भी कुछ न कुछ हमें पढने के लिए लिखेंगी। आपकी यात्रा सुखद मंगलमय हो

प्रदीप मानोरिया ने कहा…

aapkaa intezzar rahegaa aapki chuttiyaan sukhad beete hongee badhaaii . yadi aapne blogging resume kar lee ho to mere blog par padhaar kar anugraheet karen