19 सितंबर 2011

अंगूर (बाल कविता)

8 टिप्‍पणियां:

सहज साहित्य ने कहा…

एक ऐसी प्यारी बाल-कविता जिसे बच्चे गुनगुना सकते हैं । भावना जी का यह क्षेत्र भी व्यापक और सराहनीय है ।

Rachana ने कहा…

bachon ke star pr ja kar likhna asan nahi hota .aapne likha hai bahut hi pyara hai .
badhai
rachana

Dr (Miss) Sharad Singh ने कहा…

बहुत प्यारा मीठा बालगीत...बिलकुल मीठे अंगूरों जैसा...

kshama ने कहा…

Behad pyaree kavita!

Dreams ने कहा…

bahut pyari bal kabita..loved it

aadilrasheed ने कहा…

atiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiii sundar is kavita me wo sab kuchh hai jo aaj ham dhoondte phirte hain yani maan aur pyara bachpan
aadil rasheed

JHAROKHA ने कहा…

bhawna ji
bahut hi pyaara geet.padhkar ham bhi bachpane me kahin khoo se gaye .sach munh me paani aa gaya aapki ye bal-rachna padhkar
bahut bahut badhai
poonam

Rajiv ने कहा…

भावना जी, अंगूर जैसी ही रसीली एवं आकर्षक कविता.अत्यंत मोहक एवं बालमन को रिझानेवाली . बहुत सुन्दर.