3 अगस्त 2012

कुछ मन की बात...


हमारे यहाँ तो राखी होती नहीं है। बचपन में हम बहुत रोया करते थे, जब सब बहनें अपने  भाइयों को राखी बाँधा करती थी और हम चुप खड़े देखा करते और फिर फूट-फूट कर रोया करते, हमारे भाई में बहुत उदास, आँखों में टिमटिमाते आँसुओं से बस हमको देखा करते, हम बच्चे करते भी तो क्या, धीरे-धीरे वक्त गुज़रा हम समझदार हुए और जाने कि हमारे यहाँ राखी क्यों नहीं मनाई जाती, पर आज भी ये त्यौहार आता है तो मन में बड़ी हलचल सी मच जाती है, आँखे कहीं स्थिर सी हो जाती हैं-


छाए उदासी
मन बने है पाखी
देखे जो राखी।






मैं जब देखूँ
धागों सिमटा प्यार
आँसू सँवारुँ।






मेरे पतिदेव के यहाँ राखी का  त्योहार  मनाया जाता है, वो परदेस में अपनी बहन द्वारा भेजी राखी देखकर प्रफुल्लित हो उठते हैं। मेरी बेटियों ने जब से होश सँभाला मैंने उन दोनों को मेरी तरह कभी उदास नहीं होने दिया वो दोनों एकदूसरे को राखी बाँधती हैं और बहुत खुश होती हैं और अपने पापा के लिये तो वो खुद राखी बनाती हैं कल भी कुछ ऐसा ही हुआ उनका ये प्यार देख मेरी कलम ने कुछ हाइकु लिख डाले जो आप सबके साथ बाँटती हूँ-







राखी जो आई
छोटी-छोटी खुशियाँ
संग में लाई।





मेल मिलाती
मोती और धागों का
स्नेह सजाती।


नन्हें से हाथ
मोतियों से सजाते
पापा का हाथ।




खुशी से झूमे
बिटिया का मस्तक
पापा जो चूमे।





राखी में छिपी
मधुर सी मुस्कान
जी भर खिली।



सभी को रक्षाबंधन की हार्दिक शुभकामनाएँ...


Bhawna

7 टिप्‍पणियां:

सहज साहित्य ने कहा…

सभी हाइकु एक से बढ़कर एक हैं । मन-प्राण को छूने वाले । परन्तु इनका तो कोई जवाब नहीं है-
छाए उदासी
मन बने है पाखी
देखे जो राखी।
XXX

मैं जब देखूँ
धागों सिमटा प्यार
आँसू सँवारुँ।
XX aa

राखी जो आई
छोटी-छोटी खुशियाँ
संग में लाई।
XX
मेल मिलाती
मोती और धागों का
स्नेह सजाती।
--- आप सभी को खुशियों की यह सौगात प्रतिपल मिलती रहे । अनन्त शुभकामनाओं के साथ -हिमांशु

sushma 'आहुति' ने कहा…

बेहतरीन अभिव्यक्ति.....

जयकृष्ण राय तुषार ने कहा…

बहुत ही भावनात्मक हाइकू शुभकामनायें |

kshama ने कहा…

Badee man bhavan post!

Dr (Miss) Sharad Singh ने कहा…

बहुत सुन्दर भावाभिव्यक्ति.......
मन को गहरे तक छू गई एक-एक पंक्ति...

बेनामी ने कहा…

खरगोश का संगीत राग रागेश्री पर आधारित
है जो कि खमाज थाट का सांध्यकालीन राग है,
स्वरों में कोमल निशाद और बाकी स्वर
शुद्ध लगते हैं, पंचम इसमें वर्जित है, पर
हमने इसमें अंत में पंचम का प्रयोग भी किया है, जिससे इसमें राग बागेश्री
भी झलकता है...

हमारी फिल्म का संगीत वेद
नायेर ने दिया है... वेद जी को अपने संगीत कि प्रेरणा जंगल में चिड़ियों कि चहचाहट से मिलती है.
..
Also visit my web-site ; फिल्म

कविता रावत ने कहा…

बहुत सुन्दर प्यारी प्रस्तुति
भाई-बहन का रिश्ता आजीवन होता है बाकी रिश्ते तो बाद में बनते हैं ..