9 मई 2007

लीजिये आप लोगों की फरमाईश पर प्रगीत कुँअर जी द्वारा लिखी एक कहानी "जोशी जी"

जोशी जी


शायद कम ही लोग ऐसे होते होंगे जो जोशी जी जैसा सामर्थ्य रखते हैं। जोशी जी आज़ भी ऑफिस में चर्चा का विषय बने रहते हैं। कभी-२ हँसी की चुटकियों के बीच उन्हें याद किया जाता तो कभी मुश्किल क्षणों में भी जब सारा ऑफिस रात-रात तक काम करता नज़र आता। जोशी जी थे ही ऐसी हस्ती, नहीं-नहीं हैं ही ऐसी हस्ती जो जहाँ भी जायें अपनी यादों की छाप सदा के लिये छोड़ जायें। आप भी सोच रहे होंगे कि कब से मैं जोशी जी-जोशी जी कहे जा रहा हूँ, आखिर कौन हैं ये जोशी जी? ऐसी क्या बात है उनकी शख्सियत में?
अच्छा ठीक है मैं अब आपको उस लीक पर लेकर आता हूँ जहाँ से आपको उनसे परिचय कराया जा सके। मगर उसके लिये आपको मेरे साथ वर्तमान से कुछ पीछे चलना होगा। जब एक कम्पनी में एक नवयुवक के रूप में मैंने अपनी शिक्षा पूर्ण करने के बाद Accounts Officer के रूप में ज्वाईन किया था। बहुत ही अविस्मरणीय था वह पहला ऑफिस का दिन जब मैं एक अनुभवहीन बालक के समान हाथ मे नया ब्रीफकेस लेकर ऑफिस में प्रवेश कर रहा था। ऑफिस में प्रवेश होते ही सबसे पहले अधेड़ उम्र की रिशेपस्निस्ट से सामना होते ही 'गुड मॉर्निग मैड़म' से अपनी ज़ुबान को खोला। बदले में रिशेपस्निस्ट ने भी मुस्करा कर “सर वेलकम टू अवर ग्रुप” से उत्तर दिया। इण्टरव्यू के तीन चार चरणों के कारण वह पहले से ही मुझसे परिचित हो चुकी थी। मैंने औपचारिकतावश उनसे अपने डिमार्टमेंट का रास्ता पूछा और उन्होंने सिक्योरिटी गार्ड को मेरे साथ जाने का इशारा किया। गार्ड मुझे लिफ्ट के रास्ते पाँचवीं मंजिल पर ले गया और लिफ्ट का दरवाज़ा खुलते ही मुझे बताया कि यही आपका डिपार्टमेंट है और वापिस लौट गया। सामने ही जी० एम० : मिस्टर जोशी जी के नाम का बोर्ड लगा था मैंने सीधे ऊपर जाकर दरवाज़ा नॉक किया और 'मे आइ कम इन सर' ? कहकर धीरे से दरवाज़ा खोला तो सामने जोशी जी कम्प्यूटर पर किसी कार्य में व्यस्त नज़र आये और उन्होंने 'कम इन' कहकर अन्दर आने का सकेंत दिया और मुझे उनके सामने रखी विशालकाय मेज़ के सामने रखी कुर्सी पर बैठने को कहा।
जोशी जी का अनुभव उनके चेहरे से झलक रहा था। उनकी आयु तकरीबन साठ के आसपास थी। मेरे बैठते ही उन्होंने अपने काम को रोककर मेरी ओर मुख़ातिब होकर मुझसे एक संक्षिप्त परिचय पूछा और कहा कि-“हाँ सेठ जी (हमारे एम० डी०) ने मुझे तुम्हारे बारे में बताया था कि उन्होंने तुम्हें यहाँ के लिये स्लैक्ट किया है। बहुत खुशी हुई तुम्हारे जैसे नौज़वान को यहाँ पाकर। क्योंकि अभी जब तुम अपने डिपार्टमेंट के लोगों से मिलोगे तो तुम वहाँ अपने को सबसे छोटा पाओगे। यहाँ सभी अपने १५ से २० वर्ष इस ऑफिस में व्यतीत कर चुके हैं। मगर तुम बिल्कुल चिन्ता मत करना मैं एक-२ करके तुम्हारा परिचय सबसे करा दूँगा और आशा है तुमसे उनको और उनसे तुमको बराबर का कॉपरेशन मिलेगा।“ मुझे उनके शब्दों से मन के कोने में बैठे एक डर से तुरन्त ही छुटकारा मिल गया।
अब शुरु हुआ एक-एक करके सभी स्टाफ मेम्बर से परिचय का सिलसिला। ये गुप्ताजी.. ये खान साहब… ये दीक्षित साहब…ये थामस…ये कुलतार सिंह आदि-२। पहले दिन मुझे उन सबके चेहरे और नाम आदि को अपने स्मरण में रखना बहुत मुश्किल था मगर मैं मुस्कराहट से उनके अभिवादन को स्वीकार करता गया। इसी मुलाकात के सिलसिले में पता नहीं कब पूरा दिन निकल गया। इसी तरह धीरे-धीरे मैं गुप्ता जी, शर्मा जी आदि के नाम और चेहरे से परिचित होना शुरु हो गया। अब तो मेरी जुबान पर भी गुप्ता जी आज़ की बैंक पोज़ीशन क्या है? शर्मा जी आपकी रिपोर्ट अभी नहीं मिली, जल्दी कीजिये मुझे वो रिपोर्ट जोशी जी को देनी है। सेठ जी कभी भी माँग सकते हैं उस रिपोर्ट को जोशी जी से…आदि बातें अभ्यस्त हो चुकी थीं।
कभी ऑडिट कभी ईयर एंड रिपोर्ट आदि की व्यस्तताऐं रहतीं तो जोशी जी मेरे केबिन में आकर पीठ थपथपाते रहते और कहते- “बेटा तुम्हारे आने के बाद मुझे बहुत आराम हो गया है। पहले मैं रात में रोज़ देर तक इन कामों को निपटाने में ही लगा रहता था।“ मैं भी उन्हें उत्तर में कहता- “सर आप ही मेरे गुरु हैं जो आपने मुझे इन सब अनुभवों से अवगत कराया और मुझे इस योग्य समझा कि मैं इन कामों को आपके अनुरूप कर सकूँ।“ वह कहते कि- “मैंने अपने ३० साल के कार्यकल में पूरे स्टाफ को अपने परिवार की तरह ही समझा है और ईश्वर ने मेरा हमेशा साथ दिया है कि मुझे भी बदले में अच्छे लोग ही मिले हैं।“
मुझे ऑफिस के बाकी लोगों से जोशी जी द्वारा उन्हें समय-२ पर की गयी मदद संबंधी बातें पता चलती रहीं और मेरे मन में भी जोशी जी के प्रति एक अलग सी आदर भावना रहने लगी। मेरी छोटी मोटी गलतियों को भी जोशी जी ने हमेशा नज़र अंदाज़ किया था और मुझे बुलाकर प्यार से समझा दिया करते थे। उन्होंने मुझे ऑफिस के काम की सभी बारीकियों से जल्दी ही अवगत करा दिया था। सही मायने में हम उन्हें 'मैन ऑफ प्रिंसिपल' कह सकते थे। जोशी जी का परिवार भी उन्हीं के समान बहुत सौम्य और मृदुभाषी था। अक्सर ऑफिस पार्टियों में उनके परिवार से मिलने का मौका मिलता रहता या उनकी अनुपस्थिति में उनके फोन बज़ने पर, उठाने पर परिज़नों से परिचय का मौका मिलता रहता था।
जोशी जी अपने स्वभाव के कारण न सिर्फ अपने ऑफिस में ही बल्कि बैंक एवं उन सभी लोगों में लोकप्रिय थे जिनसे रोज़मर्रा में हमारे ऑफिस का संपर्क रहता था। स्टाफ में जो गुप्ताजी थे वो १५ वर्ष का अनुभव लिये हुये थे मगर पूरी तरह जोशी जी के आदेशों का निर्वाह करने को ही अपने कार्य का हिस्सा मानते थे। जोशी जी हमेशा गुप्ता जी को प्यार से समझाते थे कि- “गुप्ताजी क्यों हमेशा मेरे इशारों पर ही काम को आगे बढ़ाते हो, कभी खुद अपनी बुद्धि से भी डिसीज़न लेने की सामर्थ्य लाओ। मैं हमेशा ही नहीं रहने वाला तुम्हें रास्ता दिखाने के लिये। अब खुद भी कुछ करना सीखो” बदले में गुप्ताजी हमेशा हँसकर एक ही जवाब में जोशी जी को चुप कर देते कि- “हम तो आपके हनुमान हैं आप जहाँ जायेंगे हम भी वहाँ चले चलेंगे”। जोशी जी भी सिर हिलाकर मुस्कराकर बस इतना ही कह पाते कि- “गुप्ता तेरा मैं क्या करूँ”।
सेठ जी को भी हमारे डिपार्टमेंट में जोशी जी के होते हुये कभी किसी जानकारी के लिये किसी भी डिपार्टमेंट के अन्य व्यक्ति से सीधे संपर्क करने की जरूरत ही नहीं हो पाती थी। जोशी जी को भी मैंने कभी छुट्टी आदि लेते हुए ही नहीं देखा था।बल्कि जोशी जी तो रविवार में भी ऑफिस आने के अवसर से नहीं चूकते थे। वह कहते कि- “बेटा अब मैं ऑफिस के काम में इतना रम गया हूँ कि कोई काम अधूरा होने पर मैं छुट्टी के दिन भी घर में नहीं बैठ पाता”। माना कि मिसेज़ जोशी जी को उनकी इस बात से हमेशा शिकायत ही रहती थी मगर वह भी जोशी जी के स्वभाव से अच्छी तरह परिचित थीं कि वह ऐसे में किसी की भी नहीं सुनने वाले और वह उनकी इस क्वालिटी की कद्र भी करती थीं।
मुझे अच्छी तरह याद है वह सोमवार का दिन था। हफ्ते का पहला दिन होने के कारण सोमवार हमेशा ही बहुत बिज़ी डे हुआ करता था। हमेशा की तरह हम सब ठीक ८ बज़े ऑफिस के रिस्पेशन पर थे। जोशी जी हमसे १०-१५ मिनट पहले ही आया करते थे। ऊपर जाकर जोशी जी को मॉर्निग बोलने गया तो जोशी जी कुछ चिन्तित से लग रहे थे। बोले- “बेटा मेरे बड़े भाई के बेटे का आज़ सुबह ही बहुत सीरीयस एक्सीडेंट हो गया है और आज़ ही दूसरी कंपनी से मेरी बहुत जरूरी मीटिंग है। मैं समझ नहीं पा रहा कि मैं क्या करुँ, मुझे हॉस्पिटल भी जाना है और मीटिंग भी जरूरी है”। मैंने तुरंत उनसे कहा कि- "सर आप चिन्ता न करें में मीटिंग में चला जाऊँगा। वैसे भी मीटिंग की फाईल मैंने ही तैयार की है इसीलिये मुझे आईडिया तो है ही बाकि आप मुझे ब्रीफ कर दें”। जोशी जी के चेहरे पर आयी चिन्ता की लकीरें इस बात से कुछ कम होती दिखाई दी। बोले- “ठीक है फिर ऐसा करते हैं कि अभी ही निकलते हैं। तुम मेरे साथ चलो मुझे हॉस्पिटल छोड़ने के बाद मेरा ड्राइवर तुम्हें मीटिंग प्लेस पर छोड़ देगा और रास्ते में मैं तुम्हें मीटिंग के बारे में भी गाईड कर दूँगा”। उन्होंने पूरे स्टाफ के लोगों को बुलाकर ये जानकारी दी और सबको उनका काम समझा कर चलने को कहा। मैं और जोशी जी तो ऑफिस से निकल गये बाद में सेठ जी के पी० ए० की कॉल जोशी जी के लिये आयी तो स्टाफ मेम्बर्स ने बताया कि जोशी जी अभी हॉस्पिटल गये हैं और २ घण्टे बाद लौटेगें। सेठ जी को भी शायद कुछ ज्यादा ही अर्जेंट काम था, उनके पी० ए० की कॉल फिर आई और पूछा कि- “बैंक के काम कौन डील करता है”। गुप्ता जी का नाम लेने पर उन्होंने तुरंत गुप्ता जी को ऊपर मिलने के लिये बुलाया। गुप्ता जी बहुत सहमे हुये से सेठ जी से मिलने के लिये लिफ्ट से टॉप फ्लोर के लिये अपनी बगल में अपनी फाईल दबाये हुए निकले। सेठ जी ने कम शब्दों में गुप्ता जी से कहा कि- “फलां व्यक्ति के नाम १० लाख का चैक अभी बनाकर उसे आज़ ही उनके एकाउंट में ट्रांसफर कराना है”। गुप्ता जी सीधे नीचे आकर अपनी सीट पर बैठ गये और अस्त व्यस्त कागज़ों को सभाँलते हुये जोशी जी के लौटने का इन्तज़ार करने लगे। माना की उन्होंने उससे संबंधी सभी कागज़ भी जोशी जी को दिखाने के लिये ढूँढ निकाले थे। १० मिनट बाद फिर सेठ जी के पी० ए० की कॉल गुप्ताजी के लिये आयी। गुप्ता जी घबराये हुये से फिर लिफ्ट की ओर दौड़े और सेठ जी के सामने पहुँच गये। सेठ जी ने गुस्से से कहा कि- "चैक कहाँ है?" घबराहट में गुप्ता जी ने ब्लैंक चैक बुक सेठ जी की ओर बढ़ायी। अब ब्लैंक चैक देखकर सेठ जी का पारा सातवें आसमान पर चढ़ गया और अंग्रेज़ी में गुप्ता जी को डाँटते हुये अपने पी० ए० को बुलाया और कहा कि- "इस आदमी का अभी हिसाब करो और कल से मैं इसका चेहरा ऑफिस में न देखूँ।" गुप्ता जी के तो जैसे पैरों के नीचे से जमीन ही निकल गयी। सॉरी सर के अलावा उनके मुँह से कुछ भी नहीं निकल सका और वो वापस अपनी सीट पर लौटकर फफक-फफक कर रोने लगे। तभी जोशी जी हॉस्पिटल से वापस लौट आये और लोगों ने उन्हें स्थिति से अवगत कराया। जोशी जी ने किसी की भी न सुनते हुये सीधे सेठ जी के केबिन की ओर दौड़ लगायी, उन्होंने अपने भतीज़े की चिन्ता को भी भुला दिया और सेठ जी के केबिन को नॉक किया। सेठ जी उन्हें देख तुरंत अन्दर बुलाया। जोशी जी ने सेठ जी से गुप्ता जी द्वारा किये गये कृत्य पर माफी माँगी और उनको जॉब से न निकालने का आग्रह किया। मगर सेठ जी तो बस किसी की बात सुनने के मूड में ही नहीं थे। उन्होंने कहा- "जोशी गुप्ता की पैरवी करने की जरूरत नहीं है मैं जो डिसीज़न ले चुका सो ले चुका। अब वो नहीं बदल सकता। जोशी जी ने सेठ जी से पूछा कि- "यदि गुप्ता जी की गलती न हो तो?"
सेठ जी बोले कि- "फिर जिसकी गलती है उसे जॉब से जाना होगा”। जोशी जी ने तुरंत ही मेज़ पर पड़े एक कागज़ पर कुछ लिखा और सेठ जी को दे दिया। सेठ जी पेपर को पढ़कर स्तब्ध रह गये। बोले- "जोशी जी ये क्या मज़ाक है?" जोशी जी बोले -"यही सही है गुप्ता ने मुझसे मोबाईल पर इस चैक के बारे में पूछा था और मैंने ही उसको मेरे आने तक इंतज़ार के लिये कहा था इसलिये मैं ही गुनहगार हूँ और इसीलिये मैं रिज़ाइन दे रहा हूँ।" सेठ जी तो अच्छी तरह सच जानते थे कि जोशी जी जो कह रहे हैं गलत है और गुप्ता जी को बचाने के लिये ही ये ऐसा कर रहे हैं। मगर अपनी ईगो के सामने सेठ जी को जोशी जी का रिज़ाईन मजूंर करना पड़ा। जब यह बात सेठ जी के केबिन से हमारे फ्लोर तक पहुँची तो सारे डिपार्टमेंट में जैसे सन्नाटा छा गया और जोशी जी के लौटने पर सब लोगों ने उनको घेर लिया। इसी बीच मैं भी खुशी-खुशी मीटिंग खत्म करके ऑफिस लौटा तो सब बदला हुआ पाया। जोशी जी स्टाफ के लोगों से घिरे बैठे थे और मुझे भी इशारे से अपने करीब की कुर्सी पर बिठा लिया। गुप्ता जी तो बार-बार रोते हुये कह रहे थे-"सर आपने ऐसा क्यों किया? मुझ जैसे नालायक के लिये आपने अपनी जॉब को दाँव पर लगा दिया।" जोशी जी ने मुस्कराते हुये कहा- "गुप्ता अब तुम काम करना सीख जाओगे। मैं चाहता हूँ कि तुम मेरे बिना रहने की आदत डालो।" गुप्ता जी बोले-"मैं भी यहाँ नहीं रहने वाला। जहाँ आप जायेंगे मैं भी वहीं जाऊँगा।" जोशी जी बोले- "ऐसी गलती मत करना। अपनी दोनों बेटियों की सोचो तुम्हें उन्हें पढाना लिखाना है, उनकी शादी करनी है, मेरा क्या है, एक बेटा है वह भी बहू के साथ यू० एस० में सैटल्ड है।" सबने बड़े ही भारी मन से जोशी जी को अश्रुपूर्ण विदाई दी। तो ऐसे थे हमारे जोशी जी। उनके जाने के बाद मेरा भी मन उस कंपनी में नहीं लगा और दूसरी जॉब मिलते ही मैंने भी उस कंपनी को छोड़ दिया।
आज सुना है जोशी जी भी यू० एस० में अपने बेटे के साथ परिवार सहित रह रहे हैं और गुप्ता जी को अब बिना ऊँगली पकड़े चलना आ चुका है।

9 टिप्‍पणियां:

Udan Tashtari ने कहा…

जोशी जी के विषय में आपका संस्मरण पढ़कर अच्छा लगा. शायद सभी के जीवन में इस तरह के कुछ लोग होते हैं जो दिल पर एक छाप छोड़ जाते हैं हमेशा के लिये. आपने बड़ी सहजता से उन्हें शब्दों मे ढाला है, संपूर्ण प्रवाह के साथ. बहुत बधाई. उम्मीद है भविष्य में भी आपका लिखा पढ़ते रहेंगे. भावना जी को साधुवाद आपके इस प्रस्तुतिकरण के लिये.

मोहिन्दर कुमार ने कहा…

आपका लिखा संस्मरण बहुत अच्छा लगा.. आजकल जोशी जी जैसे लोग बहुत कम मिलते हैं फिर भी कुछ लोग तो हैं जो दूसरों से अलग हैं और जिन से एक बार मिलकर बार बार मिलने का दिल भी करता है.

लिखते रहिये

मोहिन्दर कुमार ने कहा…

आपका लिखा संस्मरण बहुत अच्छा लगा.. आजकल जोशी जी जैसे लोग बहुत कम मिलते हैं फिर भी कुछ लोग तो हैं जो दूसरों से अलग हैं और जिन से एक बार मिलकर बार बार मिलने का दिल भी करता है.

लिखते रहिये

राकेश खंडेलवाल ने कहा…

है प्रगीत को बहुत बधाई सुन्दर लिखी कहानी
सुधियां होती अक्सर बीते लम्हों की दीवानी
जीवन के पथ पर निशान जो कोई छोड़ सका है
उसकी भोर-सांझ दोहराई जाती नित्य कहानी

नीरज दीवान ने कहा…

प्रभावोत्पादक रचना.. बधाई. पहली बार आपके पन्ने पर आया.. हर्षित हूं. उम्मीद है कि बेहतरीन कविताएं पढ़ने मिलेंगी. साथ ही अन्य रचनाओं का भी मुन्तज़िर हूं.. शुभकामनाएं स्वीकार करें.

Dr.Bhawna ने कहा…

समीर जी सही कहा आपने वास्तव में कुछ लोगों को हम कभी नहीं भुला पाते। आपका शुक्रिया। आपको आलेख पसन्द आया।

प्रगीत कुँअर

मेरी तरफ से भी शुक्रिया!!
भावना :)

Dr.Bhawna ने कहा…

राकेश जी आपकी रचनायें भावना मुझको अक्सर सुनाती रहती हैं बहुत पसन्द आती हैं मुझे, बहुत अच्छा लिखते हैं, आपको कहानी पसन्द आई शुक्रिया।

प्रगीत कुँअर

Dr.Bhawna ने कहा…

मोहिन्दर कुमार जी सही में ऐसे लोग कम ही मिलते हैं। आपका धन्यवाद।
प्रगीत कुँअर

Dr.Bhawna ने कहा…

नीरज जी आप पहली बार मेरे ब्लॉग पर आये। पर देर से ही सही आप आये तो मुझे खुशी हुई आपका स्वागत है। बहुत-बहुत शुक्रिया आपका रचनाओं आदि को पसन्द करने के लिये। आपको मेरी अन्य रचनायें ब्लॉग पर दिये लिंक में भी मिल जायेगीं जैसे अनुभूति,अभिव्यक्ति, हिन्दी नेस्ट, साहित्य कुजं, सृजनगाथा, तरकश।