27 मार्च 2013

होली में तूने

पिछले बरस जो
 


लगाया था गुलाल 


खुशबू बन


महकता आज भी
 


मेरे कपोलों पर। 










Bhawna

9 टिप्‍पणियां:

सहज साहित्य ने कहा…

अनुभूति की उमंग से भरा बहुत ही मँजा हुआ सेदोका । हार्दिक बधाई , इन शब्दों में- 1
मन उदास
खोजा ,पर मिला ना
कहीं हुलास ।
2
मन में रंग
धरा पर बिखरे
सौ-सौ वसन्त ।
3
मुखड़ा रँगा
इन्द्रधनुष खिला
हँसे आकाश । - रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु'

दिगम्बर नासवा ने कहा…

प्रेम का कितना गहरा रंग ...
होली की शुभकामनायें ...

Dr.Bhawna ने कहा…

Aabhar bahut sundar haiku ..

Dr.Bhawna ने कहा…

Aapko bhi holi ki shubhkaamnaayen ...

KAHI UNKAHI ने कहा…

होली के रंग से भरे इस खूबसूरत सेदोका के लिए बधाई भावना जी...|
बधाई...|
प्रियंका

सुनील गज्जाणी ने कहा…

namaskaar !
behad sunder abhivyakti . badhai .

Manohar Chamoli ने कहा…

सुन्दर रचना है.

Udan Tashtari ने कहा…

बहुत उम्दा! देर से आये... :)

बेनामी ने कहा…

The іnteгior іs absolutely οut-class, and the 2012 nο credit check auto loans M3if only by 0.

It was nοt easy to аttaсh the antеnna adapters tο the XM antenna ѕwitch unit noω is.
Αll this starts in the MSRP rangе
of ϳust $30, 000 fοr the sedan. Dwіght
Howard has an impгessіve 39" vertical leap.

Also visit my web-site :: http://www.molali.com