11 मई 2015

"मीठी यादों के कुएँ"











साथ रखना
मीठी यादों के कुएँ
छोड़े अपने
जहर बुझे बाण
खाली न हो उनकी
जब कमान
एक लोटा याद ले
तू छिड़कना।
अँधेरी रात जब
गम से घिरे
अपनापन जब
कम सा लगे
यादों के जुगनू को
हथेली में ले
मन अटरिया पे
हौले रखते
जरा न झिझकना।
सुहानी भोर
जब चुभने लगे
ओस मोती भी
जब हरने लगें
एक प्याली में
चाय संग घुली वो
मीठी सी याद,
हरी घास पे पड़े
झूले का साथ,
धीरे से निकाल तू
एक नई सी
दुनिया बुन लेना।
मीठे सपने
घुटन सीने में ज्यूँ
भरने लगें,
पलकों से दर्द ज्यूँ
झरने लगे,
मधुर मिलन की
बीती रात की
सुनहरी सी याद
हौले निकाल
तू पलकों के पास
मोती समझ
बिना किसी हिचक
चुपके भर लेना।

Bhawna

8 टिप्‍पणियां:

Udan Tashtari ने कहा…

सुनहरी सी याद
हौले निकाल
तू पलकों के पास
मोती समझ
बिना किसी हिचक
चुपके भर लेना।

-Bahut Sunder

मेरा साहित्य ने कहा…

सुनहरी सी याद
हौले निकाल
तू पलकों के पास
मोती समझ
बिना किसी हिचक
चुपके भर लेना।
bahut sunder bhav
badhai
rachana

Dr.Bhawna ने कहा…

Aap dono ko bahut bahut abhaar mere soye blog par aane ke liye or kamal ye ki aap dono ko hi saman pankityian pasnad aayin dil se eak bar fir aabhar... :) :)

Narendra Purohit ने कहा…

बहुत सुंदर लिखा भावना जी आपने, कई दिनों बाद तुलिका ने अपना रंग वापस बिखेरा , अच्‍छा लगा।

Narendra Purohit

रचना दीक्षित ने कहा…

वाह क्या बात है


सुनहरी सी याद
हौले निकाल
तू पलकों के पास
मोती समझ
बिना किसी हिचक
चुपके भर लेना।
मनों भावों का का सुन्दर चित्रण

कहकशां खान ने कहा…

''मीठी यादों के कुएं'' बहुत ही मीठे हैं।

सहज साहित्य ने कहा…

बहुत सुन्दर कविता ! सचमुच मीठे कुँएँ के मीठे पानी जैसी । भाव -सरिता कल-कल छल-छल करती हुई।
खेद है की मेरी नज़र से यह रचना कैसे छूट गई !

Dr.Bhawna ने कहा…

Aap sabhi ka dil se aabhar meri rachna ko padhne or pasand karne ke liye, mera lekhn, blog to sab chhut sa gaya hai koshish karti hun Kuchh likhun par halat aise ban gaye hain ki chah kar bhi nahi kar pati... Bahut dukhad hai mere liye...