28 दिसंबर 2007

कुछ ऐसे चित्र जो नहीं मानते रंग भेद या जाति भेद, जानते हैं बस प्यार....

जाति रंग का भेद न हो
रचें आज ऐसा संसार
होली,ईद या हो क्रिसमस
मिलकर मनाये सारे त्यौहार...


मेरी बेटी अपने अफ्रीकन मित्रों के साथ


डॉ॰ भावना

2 टिप्‍पणियां:

ajay kumar jha ने कहा…

dr. bhavna jee,

saadar abhivaadan. apko blog ko dekh kar yahee baat mukh se nikaltee hai ki blogging karne kee gambheertaa shaayad ise hee kehte hain. aapki srijansheelta aur shram ko main salaam kartaa hoon

अजित वडनेरकर ने कहा…

अच्छा लगा चित्रों को देखना....
नए साल की अग्रिम शुभकामनाएं