16 दिसंबर 2011

दर्द ...












जब दर्द हद से गुजरता है तो...

लोग कहते हैं - गज़ल होती है

वो क्या जाने! कि दर्द के दरिया में पड़े

शब्द के सीने से निकलने वाली चीत्कार

कितनी असहनीय होती है...













Bhawna

9 टिप्‍पणियां:

भरत तिवारी ने कहा…

कर दिया शाश्वत (छुपे)सच को बयाँ
साधुवाद
... सादर
भरत तिवारी

Udan Tashtari ने कहा…

बहुत उम्दा पंक्तियाँ...

सहज साहित्य ने कहा…

जब दर्द हद से गुजरता है तो...
लोग कहते हैं - गज़ल होती है
वो क्या जाने! कि दर्द के दरिया में पड़े
शब्द के सीने से निकलने वाली चीत्कार
कितनी असहनीय होती है.
इन पंक्तियों में आपन जीवान का सच बयान किया है । जिसको व्यथा होती है , वही उसकी तीव्रता को जान सकता है।भुक्तभोगी ही जानता है कि दर्द की गहराई किस प्रकार मन और मस्तिष्क को मथकर रख देती है।

kshama ने कहा…

Chand panktiyon me bahut badee baat kah dee aapne!

Rachana ने कहा…

दर्द के दरिया में पड़े
sunder bhav hai sahi hai jab shbd aese dariya me ho to chitkar hi nikalti hai
sunder abhivyakti
rachana

Deepak Shukla ने कहा…

Bhawna ji..

Dard usi ne jaana, jisne..
Dard kabhi jo paaya hai...
Bin paaye na koi jaana..
Apna ya wo paraya hai..

Bhavpoorn abhvyakti...

Deepak Shukla..

दिगम्बर नासवा ने कहा…

Bahut khoob ... Sach ko shabd de diye ...

Naveen Mani Tripathi ने कहा…

vah Bhawana Ji etni khoob soorat panktiyan hai ki bs mai kya kahun ... sirf abhar aur badhai

Naveen Mani Tripathi ने कहा…

Vah bahwan ji kya khoob likha hai badhai ke sath hi abhar.

Gazal aur virah ke gahre rishte ko ap ne khoobsoorat andaj me likh diya .