17 नवंबर 2013

सादर इंडिया में मेरे कुछ हाइकु प्रकाशित हुए हैं जो आप सबके स्नेह के बिना अधूरे हैं...




































Bhawna

7 टिप्‍पणियां:

Udan Tashtari ने कहा…

बहुत बहुत बधाई एवं हार्दिक शुभकामनाएँ...

सुन्दर हैं.

Digamber Naswa ने कहा…

वाह ... बहुत ही लाजवाब हाइकू हैं ...

सहज साहित्य ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.
सहज साहित्य ने कहा…

हर हाइकु 5-7-5 की छोटी-सी गागर में पूरा भाव सागर समेटे हुए है । आपके हाइकु उत्तम हाइकु का आदर्श नमूना है । आप यूँ ही भाव-सरिता बहाती रहें। हार्दिक बधाई !

सीमा स्‍मृति ने कहा…

जैसा आप का नाम वैसा काम । मुझे तो आप के सभी हाइकु हमेशा भावो से भरपूर लगते हैं। धूप के खरगोश में तो जिसे प्रकृति का न पता हो वह उस से मिल भी लेगा।

सीमा स्‍मृति ने कहा…

जैसा आप का नाम वैसा काम । मुझे तो आप के सभी हाइकु हमेशा भावो से भरपूर लगते हैं। धूप के खरगोश में तो जिसे प्रकृति का न पता हो वह उस से मिल भी लेगा।

सीमा स्‍मृति ने कहा…

जैसा आप का नाम वैसा काम । मुझे तो आप के सभी हाइकु हमेशा भावो से भरपूर लगते हैं। धूप के खरगोश में तो जिसे प्रकृति का न पता हो वह उस से मिल भी लेगा। आप को हार्दिक बधाई आप यूं ही लिखती रहें।