11 अगस्त 2006

3.

रूठा है मैय्या
वो माखन खिवैय्या
कृष्ण कन्हैया।

1 टिप्पणी:

समीर लाल ने कहा…

बढियां हाईकु हैं,आशा है आगे भी आपकी रचनायें पढने मिलती रहेंगी.हिन्दी के चिठ्ठाजगत मे आपका स्वागत है.उम्मीद है आप ने सर्वज्ञ का यह पृष्ठ पढ़ लिया होगा एवं नारद दर्शन कर लिये होंगे.
समीर लाल