4 नवंबर 2006

डॉ० भावना कुँअर की काव्य चर्चा - दैनिक जागरण में !!

To read further and increse the size of the image : click on the image below, then copy the image (opened on that page) in Microsoft Word and enlarge it by stretching it from different sides.

CLICK...

10 टिप्‍पणियां:

संजय बेंगाणी ने कहा…

हमारी बधाई स्वीकार करें.

PRAMENDRA PRATAP SINGH ने कहा…

आपको ख्‍याति मिलती रही इस शुभकामनाओं के साथ बधाई स्‍वीकार करें।

Udan Tashtari ने कहा…

बहुत बधाई.

अनूप भार्गव ने कहा…

बहुत बहुत बधाई । आप के कुँवर बेचैन जी पर ब्लौग का भी आनन्द ले रहे हैं ।

अनूप शुक्ला ने कहा…

हमारी तरफ़ से बधाई. आगे भी पुस्तकें छपने और चर्चा के लिये शुभकामनायें.

अनुराग श्रीवास्तव ने कहा…

बहुत बहुत बधाई!

Pratyaksha ने कहा…

बधाई !!!

Dr.Bhawna ने कहा…

प्रमेन्द्र जी,संजय जी,समीर जी अनूप जी आप जैसे अग्रजों की शुभकामनायें साथ हों तो फिर तो सफलता दूर नहीं आप सबकी बधाई दिल से स्वीकार है हमेशा अपना स्नेह बनाये रखिये।अनूप जी आपके और व्योम जी के लिये बेचैन जी ने एक नवगीत भेजा है मैं यूनीनागरी में लिखते ही पोस्ट करूँगी।एक बार फिर आप सबका शुक्रिया।

Dr.Bhawna ने कहा…

शुक्ला जी आपकी शुभकामनाओं का बधाई का, अनुराग जी, प्रत्यक्षा जी आपकी बधाई का भी तहे दिल से शुक्रिया।

narendra purohit ने कहा…

aadarniya bhawna ji aapko badhai pustak ki bhumika ke chapne ke liye.
narendra purohit