29 नवंबर 2008

शहीदों को शत-शत नमन...

कफन में लिपटे…
अपने बेटे को देख !
माँ का कलेज़ा फट पड़ा !
आँसू आँख से नहीं
दिल से बहे थे…
ऊँगलियाँ थी कि…
उसके चेहरे से
नहीं हटती…
मुँह से बस यही
आवाज़ निकली !
वाह मेरे लाल !
मुझे नाज़ है तुझ पर
बचा लिया तूने कितनी ही…
माँ की गोद को उज़ड़ने से…
बचा लिया तूने कितनी ही…
पत्नियों के मांग का सिंदूर…
किसी पिता का दुलार !
किसी घर का अकेला चिराग !
जो नहीं बच सके उनके लिये …
रोता है मेरा दिल…
मेरे लाल !
तू फिर आना…
अगले जन्म में भी तू
मेरी ही कोख से जन्म लेना…
फक्र है मुझे तुझ पे !
Dr.Bhawna

19 टिप्‍पणियां:

आलोक सिंह "साहिल" ने कहा…

aapki bhawnaaon ne gahre tak hila diya.nice one
ALOK SINGH "SAHIL"

ranjan ने कहा…

hame bhi phakra he ise beto par... salaam.. jai bhaarat..

Anil Pusadkar ने कहा…

शत्-शत नमन शहीदो को,और आपकी कलम को भी सलाम.

Anil Pusadkar ने कहा…

शत्-शत नमन शहीदो को,और आपकी कलम को भी सलाम.

MANVINDER BHIMBER ने कहा…

मैं नमन करती हूं उन सभी शहीदों को जिन्होंने हमारी सुख शान्ति के लिये अपनी जान की बाजी लगायी है।

नारदमुनि ने कहा…

narayan narayan

Udan Tashtari ने कहा…

नमन जांबाज नायकों को..हार्दिक श्रृद्धांजलि...इस रचना के भावों को सलाम!!!

मुंहफट ने कहा…

अगले जन्म में भी तू
मेरी ही कोख से जन्म लेना…
फक्र है मुझे तुझ पे !
...इस दौर में हम साथ-साथ. गुस्सा और शोक सहित.

Akshaya-mann ने कहा…

kya kahuin in shabdon ke baare jo chup hokar bhi bol rahe hain........
aur man hi man khe rahe hain mei aauinga tera beta bankar teri aur desh ki seva ke liye mei amar huin tu maa hai meri tu hi samjhegi is balidaan ko.......


एक दर्पण,दो पहलू और ना जाने कितने नजरिये /एक सिपाही और एक अमर शहीद का दर्पण और एक आवाज
अक्षय,अमर,अमिट है मेरा अस्तित्व वो शहीद मैं हूं
मेरा जीवित कोई अस्तित्व नही पर तेरा जीवन मैं हूं
पर तेरा जीवन मैं हूं

अक्षय-मन

dr. ashok priyaranjan ने कहा…

आपने बहुत अच्छा िलखा है । शब्दों में यथाथॆ की अिभव्यिक्त है । मैने अपने ब्लाग पर एक लेख िलखा है । समय हो तो पढें और प्रितिक्रया भी दें -
http://www.ashokvichar.blogspot.com

HEY PRABHU YEH TERA PATH ने कहा…

Bhawna Kunwarji
कफन में लिपटे…
अपने बेटे को देख !
माँ का कलेज़ा फट पड़ा !
आँसू आँख से नहीं
दिल से बहे थे…
accha laga. ..very good wishes to you .hope to see you writing more and more of this kind.please visit my blog HEY PRABHU YEH TERAPATH & "MY BLOG" (http://ctup.blog.co.in) I also want to comment on my blog.
Thank you and god bless you.

जीवन सफ़र ने कहा…

शत्-शत नमन शहीदो को और वंदन आपकी भावना को|

sandhyagupta ने कहा…

vedna ki marmik prastuti.

समयचक्र - महेद्र मिश्रा ने कहा…

शहीदो को सलाम हार्दिक श्रृद्धांजलि.

bahadur patel ने कहा…

thodi loud hai lekin achchhi kavita hai.

mala ने कहा…

आपके विचार बहुत सुंदर है , आप हिन्दी ब्लॉग के माध्यम से समाज को एक नयी दिशा देने का पुनीत कार्य कर रहे हैं ....आपको साधुवाद !
मैं भी आपके इस ब्लॉग जगत में अपनी नयी उपस्थिति दर्ज करा रही हूँ, आपकी उपस्थिति प्रार्थनीय है मेरे ब्लॉग पर ...!

संदीप शर्मा Sandeep sharma ने कहा…

शहीदो को हार्दिक श्रृद्धांजलि

योगेन्द्र मौदगिल ने कहा…

वाहवा भावना जी प्रासंगिक कविता के लिये साधुवाद स्वीकारें

amy ने कहा…

AV,無碼,a片免費看,自拍貼圖,伊莉,微風論壇,成人聊天室,成人電影,成人文學,成人貼圖區,成人網站,一葉情貼圖片區,色情漫畫,言情小說,情色論壇,臺灣情色網,色情影片,色情,成人影城,080視訊聊天室,a片,A漫,h漫,麗的色遊戲,同志色教館,AV女優,SEX,咆哮小老鼠,85cc免費影片,正妹牆,ut聊天室,豆豆聊天室,聊天室,情色小說,aio,成人,微風成人,做愛,成人貼圖,18成人,嘟嘟成人網,aio交友愛情館,情色文學,色情小說,色情網站,情色,A片下載,嘟嘟情人色網,成人影片,成人圖片,成人文章,成人小說,成人漫畫,視訊聊天室,性愛,a片,AV女優,聊天室,情色