19 सितंबर 2006

मुम्बई बम ब्लास्ट



मुम्बई में १० जुलाई २००६ को हुए बम ब्लास्ट पर कुछ हाइकुः


तिथि १० जुलाई २००६

मुम्बई शहर में

हुयी बर्बादी।


इन्सान ने ही

उडाई हैं धज्जियाँ

इन्सान की ही।


तेज था बडा

वो बम का धमाका

ट्रेन में आज।


जलती लाशें

रोते लोग दर्द से

असहनीय।


आसमान में

काला सर्प सा धुआँ

फन फैलाए।


दर्दनाक था

सदमें का असर

मिटा ही नहीं।

डॉ० भावना कुँअर

8 टिप्‍पणियां:

राकेश खंडेलवाल ने कहा…

भावनात्मक
हैं हायकू सारे ही
शुभ कामना

डॉ० भावना ने कहा…

सुन्दर टिप्पणी के लिए बहुत बहुत शुक्रिया राकेश जी।

डॉ० भावना

गिरिराज जोशी ने कहा…

अब क्या कहूँ
कैसे बे-रहम ये
आंतकवादी

दिल है कैसे
इनका सह लेता
जलती लाशें

**********
http://hykoo.blogspot.com
http://kaviakela.blogspot.com

Santosh Kumar Singh ने कहा…

Bhawana JI,
Aapke sabhi haiku achhe haiN.
Aasman mai
Kala sarp sa dhuaaN
Fan failaye.
Bahut achha haiku hai.
- Santosh Kumar Singh

Dr.Bhawna ने कहा…

Santosh Ji
Vastav men bahut dukh hota ha is prakar ke hadson se aatma sihar jati ha---

देखा मजँर
इतना भयानक
आत्मा तडफी ।

hosala afjai ke liye bahut- bahut shukriya.

Dr.Bhawna

KANUPRIYA ने कहा…

hi Bhawna ji
bahut hi acche haikoo han aapke. aapne to sacchai ko web par uttar diya.
aur bhi likhte rahiye.
KANUPRIYA :D

NARENDER PUROHIT ने कहा…

भावना जी नमस्कार,

आपकी मुम्बइ ब्लास्ट वाली किवता , यिद सब ऎसा सोचते तो शायद नजारा कुछ और होता.
धन्यवाद

NARENDER PUROHIT ने कहा…

दूर रहकर भी सोचा अपने देश के बारे में,
यही पहचान है हम भारत वािसयो की.
नरेन्दर